मेटावर्स के लिए रेगुलेशंस नहीं लाना चाहती सरकार


देश में टेक्नोलॉजी सेक्टर को रेगुलेट करने के लिए इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट मौजूद है

खास बातें

  • सरकार ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ब्लॉकचेन को लेकर स्ट्रैटेजी बनाई है
  • Web 3.0 को इंटरनेट का अगला दौर माना जा रहा है
  • फेसबुक की कंपनी मेटा ने Web 3 सर्विसेज के लिए ट्रेडमार्क फाइल किए हैं

भारत सरकार मेटावर्स को रेगुलेट करने के मूड में नहीं दिखाई दे रही है. केंद्र सरकार ने कहा है कि उसकी मेटावर्स या Web 3.0 को रेगुलेट करने की कोई योजना नहीं है क्योंकि ये उभरती हुई टेक्नोलॉजीज हैं. वित्त राज्यमंत्री पंकज चौधरी ने संसद में यह जानकारी दी है. देश में टेक्नोलॉजी सेक्टर को रेगुलेट करने के लिए इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट मौजूद है और इस वजह से मेटावर्स जैसे नए सेगमेंट्स के लिए सरकार रेगुलेशंस नहीं लाना चाहती. 

वित्त मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि उन्हें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, ब्लॉकचेन, ड्रोन, ऑग्मेंटेड रियलिटी, मेटावर्स और Web 3.0 जैसी नई टेक्नोलॉजीज के बारे में जानकारी है. सरकार ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ब्लॉकचेन को लेकर स्ट्रैटेजी बनाई है. मेटावर्स एक प्रकार का वर्चुअल वर्ल्ड है. यह ऑग्मेंटेड रियलिटी (AR) एक्सपीरिएंस देने में सक्षम होगा. यह उन लोगों और ब्रांड्स के बीच लोकप्रिय हो रहा है जो विभिन्न कम्युनिटी को एक जगह पर जोड़ना चाहते हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि मेटावर्स से इंटरनेट के लिहाज से समानता एक नए स्तर पर पहुंच जाएगी. मेटावर्स को आगे बढ़ाने में गेमिंग इंडस्ट्री जैसे क्रिएटर्स का बड़ा योगदान होने की उम्मीद है. ग्लोबल बैंकों में से एक जेपी मॉर्गन ने ब्लॉकचेन-बेस्‍ड वर्चुअल वर्ल्ड ‘डीसेंट्रालैंड’ में एक लाउंज लॉन्च किया है. इसके साथ ही यह मेटावर्स में पहला प्रमुख बैंक बन गया है. 

Web 3.0 को इंटरनेट का अगला दौर माना जा रहा है.  फेसबुक की कंपनी मेटा ने  Web 3 सर्विसेज देने के लिए आठ ट्रेडमार्क एप्लिकेशंस दाखिल की हैं. इनमें क्रिप्टो इनवेस्टर्स के लिए विशेषतौर पर डिजाइन किया जाने वाला एक डेटिंग ऐप भी शामिल है. यह क्रिप्टो और मेटावर्क सेगमेंट्स में अपनी स्थिति मजबूत करने की मेटा की कोशिशों का हिस्सा है. 

मेटा की योजना Web 3 इंडस्ट्री के लिए काम करने वाली ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर नए प्रोडक्ट्स और सर्विसेज लाने की है. कंपनी डिजिटल एसेट होल्डर्स के लिए नए सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर, ई-कॉमर्स सर्विस, टेलीकॉम सर्विसेज लॉन्च करने के साथ ही मेटा से जुड़े एडवर्टाइजिंग प्लेटफॉर्म भी पेश कर सकती है. ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी अमेरिकन एक्सप्रेस ने भी मेटावर्स सेगमेंट में उतरने की तैयारी की है. इसके लिए कंपनी ने सात ट्रेडमार्क का आवेदन किया है. आवेदन में अमेरिकन एक्सप्रेस का लोगो शामिल है जिससे संकेत मिल रहा है कि इसे भी वर्चुअल तरीके से प्रस्तुत किया जा सकता है. 

 

यह भी पढ़ें



Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.