सोलर पावर से क्रिप्टो माइनिंग पर उज्बेकिस्तान में टैक्स में मिलेगी छूट


क्रिप्टो माइनिंग के लिए लाइसेंस की जरूरत नहीं होगी

खास बातें

  • इसे बारे में उज्बेकिस्तान के प्रेसिडेंट ने ऑर्डर जारी किया है
  • लगभग चार वर्ष पहले उज्बेकिस्तान में क्रिप्टो को कानूनी दर्जा मिला था
  • माइनिंग फर्मों के पास पावर ग्रिड से कनेक्ट होने का विकल्प भी होगा

उज्बेकिस्तान में सोलर पावर से क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग करने पर सरकार टैक्स में छूट देगी. देश में सरकार चाहती है कि क्रिप्टो माइनर्स अपने सोलर पैनल लगाकर अपने माइनिंग फॉर्म के लिए पावर की जरूरत को पूरा करें. हालांकि, इलेक्ट्रिसिटी की खपत अधिक होने के दौरान इन फर्मों पर अतिरिक्त सरचार्ज भी लगाया जा सकता है.

इसे बारे में पिछले सप्ताह उज्बेकिस्तान के प्रेसिडेंट की ओर से ऑर्डर जारी किया गया था. Reuters की रिपोर्ट के अनुसार, माइनिंग करने वाली फर्में के पास नियमित टैरिफ से दोगुने का भुगतान कर पावर ग्रिड से कनेक्ट होने का विकल्प भी होगा. हालांकि, इलेक्ट्रिसिटी की खपत अधिक होने के दौरान इन फर्मों पर अतिरिक्त सरचार्ज लगाया जा सकता है. क्रिप्टो माइनिंग के लिए लाइसेंस की जरूरत नहीं होगी लेकिन इससे जुड़े फर्मों को हाल ही में बनाई गई उज्बेक नेशनल एजेंसी फॉर पर्सपेक्टिव प्रोजेक्ट्स के पास रजिस्ट्रेशन कराना होगा. Bitcoin जैसी कुछ क्रिप्टोकरेंसीज की माइनिंग के लिए प्रूफ ऑफ वर्क कहे जाने वाले एक प्रोसेस की जरूरत होती है. इसमें कंप्यूटर्स के जरिए मैथमैटिक्स की जटिल पजल्स को सॉल्व करना होता है. इन कंप्यूटर्स के लिए इलेक्ट्रिसिटी की अधिक खपत की जरूरत होती है. 

लगभग चार वर्ष पहले उज्बेकिस्तान में क्रिप्टोकरेंसी को कानूनी दर्जा दिया गया था. हालांकि, इसके लिए उज्बेकिस्तान के केवल एक क्रिप्टो एक्सचेंज पर ट्रेडिंग की अनुमति थी. उज्बेकिस्तान ने सोलर और विंड पावर सहित कुछ रिन्युएबल एनर्जी प्रोजेक्ट्स भी शुरू किए हैं. अमेरिका में पिछले वर्ष क्रिप्टो माइनिंग पर सख्ती के बाद उज्बेकिस्तान के निकट मौजूद कजाकिस्तान बिटकॉइन माइनिंग के लिए दूसरा सबसे बड़ा सेंटर बन गया था. कजाकिस्तान में माइनिंग करने वालों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है. हालांकि, इनमें अवैध तौर पर माइनिंग करने वालों की बड़ी संख्या है. कजाकिस्तान की सरकार ने क्रिप्टो माइनिंग करने वालों के लिए इलेक्ट्रिसिटी पर टैक्स बढ़ाने का फैसला किया था. इससे पहले ईरान जैसे कुछ अन्य देशों में भी क्रिप्टो माइनिंग के कारण इलेक्ट्रिसिटी की कमी हो चुकी है. 

क्रिप्टो माइनिंग में तेजी आने के कारण इलेक्ट्रिसिटी की अधिक खपत कजाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ा रही है. इस वजह से अथॉरिटीज अवैध क्रिप्टो माइनिंग सेंटर्स के खिलाफ कार्रवाई कर रही हैं. इन माइनिंग सेंटर्स से इलेक्ट्रिसिटी की कमी हो रही है और इससे आर्थिक सुरक्षा को भी खतरा बढ़ रहा है. कजाकिस्तान की फाइनेंशियल मॉनिटरिंग एजेंसी ने हाल ही में 100 से अधिक क्रिप्टो माइनिंग सेंटर्स पर छापे मारे थे. 

यह भी पढ़ें



Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.